राजधानी दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) से मुलाकात की। इस दौरान दोनों के बीच कोविशील्ड वैक्सीन की सप्लाई और उत्पादन बढ़ाने पर चर्चा हुई। स्वास्थ्य मंत्री ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। देश में अभी टीकाकरण ने गति नहीं पकड़ी है, और कई राज्यों ने वैक्सीन की कमी की वजह से इस अभियान को मजबूरन रोकने की बात कही है। इस मीटिंग में इसी समस्या के हल को लेकर चर्चा की गई। स्वास्थ्य मंत्री ने भी सप्लाई में तेजी लाने के लिए सरकार की ओर से सभी संभव मदद और समर्थन का भरोसा दिलाया।बैठक के बाद अदार पूनावाला ने भी बताया कि वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ाने पर चर्चा हुई। साथ ही उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि यूरोप के 17 से अधिक देशों ने कोवीशील्ड के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है, और बाकी कई देश मंजूरी देनेवाले हैं। आपको बता दें कि भारत के विदेश जानेवाले छात्रों को काफी परेशानी हो रही है, क्योंकि कुछ देशों ने अभी तक कोविशील्ड (Covishield) को एक स्वीकार्य वैक्सीन के रूप में मंजूरी नहीं दी है।अदार पूनावाला ने ऐसे छात्रों की मदद के लिए 10 लाख पाउंड का दान भी दिया है। यूके में अभी भी भारत के जानेवाले छात्रों को कोविशील्ड का वैक्सीन लेने के बावजूद अपनी पसंद के स्थान पर 10 दिन क्वारंटीन रहना होगा।कोविशील्ड के पास विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) से इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत है, लेकिन इसे अभी तक यूरोपीय मेडिसिन एजेंसी से मंजूरी नहीं मिली है। वहीं भारत में लगाई जा रही एक अन्य वैक्सीन, भारत बायोटेक की कोवैक्सिन (Covaxin) को अभी WHO से इमरजेंसी इस्तेमाल का अप्रूवल भी नहीं मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here